Bulandshahr(U.P): बुलंदशहर के खुर्जा में पुलिस वाली मैडम का नाम इन दिनों चर्चा का विषय बन चुका है हर कोई पुलिस वाली मैडम की तारीफ करते नहीं थक रहा है बुलंदशहर के थाना खुर्जा देहात में तैनात महिला कांस्टेबल गुड्डन चौधरी यूं तो पैसे से एक पुलिसकर्मी है लेकिन अपनी ड्यूटी के बाद जो काम गुड्डन चौधरी करती हैं वह वाकई काबिले तारीफ है गुड्डन चौधरी अपनी ड्यूटी करने के बाद झुग्गी झोपड़ी में रहने वाली मासूम बच्चों को रोज 3 घंटे पढ़ाती हैं । इस महिला कांस्टेबल की पाठशाला में दर्जनों बच्चे शिक्षा का ज्ञान ले रहे हैं।

 
उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के क्या हाल है इसकी तस्वीरें कई बार आपने देखी होगी कहीं बच्चों से झाड़ू लगवाई जा रही है तो कभी स्कूल में पढ़ाने वाले टीचर टाइम से नहीं आते और बच्चे स्कूल के गेट पर खड़ा होकर मास्टरों का इंतजार करते हैं ।लेकिन आज जो तस्वीरें हम आपको दिखाने जा रहे हैं वह एक ऐसी पाठशाला की है जिसमें ना तो कोई फीस ली जाती और ना ही बच्चों को इंतजार कराया जाता यहां इंतजार खुद  बच्चों को पढ़ाने के लिए एक पुलिस वाली मैडम करती हैं जो रोज अपनी ड्यूटी खत्म करने के बाद इन बच्चों को शिक्षा का ज्ञान देती हैं ।
खुर्जा देहात कोतवाली में तैनात यह महिला पुलिसकर्मी खासतौर पर उन बच्चों को शिक्षा देती हैं जिनके माता-पिता के पास अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए फीस नहीं है बच्चों को किताबें दिलाने के लिए पैसा नहीं है गुड्डन चौधरी ऐसे बच्चों को चिन्हित करती हैं और फिर एक ही स्थान पर जाकर सड़क के किनारे उनके लिए रोज 3 घंटे की पाठशाला लगाती हैं। बच्चे भी इनको पुलिस वाली मैडम कहकर पुकारते हैं पुलिस के अधिकारी भी इस महिला कांस्टेबल की पाठशाला की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं।
हाथरस जनपद की रहने वाली गुड्डन चौधरी अभी हाल ही में करीब 6 महीने पहले खुर्जा देहात कोतवाली में तैनात हुयी हैं इतना ही नहीं गुड्डन चौधरी अब इन बच्चों के लिए प्राथमिक विद्यालय में एडमिशन कराने के लिए भी अपनी अहम भूमिका निभा रही हैं और स्कूल में जाकर प्रधानाचार्य से यह निवेदन कर रही हैं कि इन बच्चों को किसी भी तरह से एडमिशन मिलना चाहिए। गुड्डन चौधरी की इस अनोखी पहल से यह बात सही साबित होती है कि ऐसे पढ़ेगा तो आगे बढ़ेगा इंडिया।