New Delhi: किसानों-मजदूरों की समस्याओं को लेकर भारतीय किसान संगठन के नेतृत्व में हजारों किसान आज नोएडा से दिल्ली की कूच कर दिया है हजारों की संख्या ये किसान गन्ना मूल्य के भुगतान और योगी सरकार के बिजली की दरों बढ़ोत्तरी के खिलाफ अपनी 15 सूत्रीय मांगों को लेकर मोदी सरकार के सामने रखने के लिए सहारनपुर से पैदल यात्रा करते हुए आ रहे हैं.

नोएडा से दिल्ली की ओर कूच रहे किसान अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करने की तैयारी में है. किसानों ने कहा कि किसानों के गन्ना मूल्य भुगतान ब्याज समेत जल्द किया जाए, भारत के सभी किसानों के कर्जे को पूरी तरह से माफ हों, और सिंचाई के लिए बिजली मुफ्त दी जाए.साथ ही सरकार फसलों के दाम किसान प्रतिनिधियों की मौजूदगी में तय करे. .किसानों ने आगे कहा कि सरकार दूषित हो रही समस्त नदियों को प्रदूषण मुक्त कराए और भारत में स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करे...सरकार दुवारा अपनी मांगों को न मानने को लेकर किसानों का कहना है कि अगर हमारी इन मांगों को सरकार ने नहीं माना तो या हमारे मार्च को रोकने की कोशिश की तो हम यहीं भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे और किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं.

हालांकि उसके पहले ही दिल्ली पुलिस ने पूरी तैयारी शुरू कर रखी है कि वह किसानों को दिल्ली जाने से रोक सकें. दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर दिल्ली पुलिस ने अपने जवानों को तैनात कर दिए हैं. सीआरपीएफ के जवानों को भी यहां लगाया गया है. फ्लाई ओवर के ऊपर और नीचे सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस के जवान पूरी मुस्तैदी के साथ तैनात कर दिए गए हैं. दिल्ली-यूपी बॉर्डर के गाजीपुर के पास मौजूद पूर्वी दिल्ली के ज्वाइंट सीपी ने कहा कि हम किसान मार्च पर पूरी नजर रखे हुए हैं. उत्तर प्रदेश की पुलिस के साथ हम लगातार समन्वय बना हुआ है. किसानों की गतिविधियों पर पूरी नजर है.
 
शाम को मिली जानकारी के मुताबिक किसानों और सरकार के बीच सुलह हो गयी है. सरकार ने किसानों की 15 मांगों में से 5 मांगों को मान लिया है.