1. कर्नाटक में सियासी ड्रामा- अहम बैठक में कांग्रेस-जेडीएस के 14 विधायक नदारद
कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद राज्य में सरकार बनाने की कवायद तेज हो गई है। चुनाव में किसी भी दल को स्पष्‍ट जनादेश नहीं मिलने के कारण सरकार बनाने के लिए जोड़-तोड़ शुरू हो चुकी है। अब गेंद राज्यपाल के पाले में है कि वह किस राजनीतिक दल को सरकार बनाने का मौका देते हैं। राज्य में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण अपना दावा पेश कर रही है, वहीं कांग्रेस भी जेडीएस के दम पर सरकार बनाने का दम भर रही है।

2. वाराणसी में फ्लाईओवर हादसे में सेतु निगम तथा निर्माणदायी संस्था के खिलाफ FIR दर्ज
पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रेलवे स्टेशन के सामने बन रहे फ्लाईओवर के दो बीम गिरने से 15 लोगों की मौत हो गई है। इस मामले में सेतु निगम तथा इस फ्लाईओवर का निर्माण कर रही संस्था के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इनके खिलाफ गैर इरादतन हत्या और हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया है। सरकार इस हादसे में मृतक के परिवारजन को पांच-पांच लाख तथा गंभीर रूप से घायलों को दो-दो लाख रुपये की सहायता राशि प्रदान करेगी। 

3. जम्मू-कश्मीर में रमजान के दौरान होगा सीजफायर
रमजान शुरू होने से पहले केंद्र सरकार का एक बड़ा फैसला सामने आया है। ये फैसला सीजफायर को लेकर लिया गया है। कहा गया है कि रमजान के दौरान सुरक्षाबलों का ऑपरेशन नहीं चलेगा। जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री की मांग थी कि रमजान के दौरान सीजफायर को लेकर कार्रवाई बंद की जाए। केंद्र ने महबूबा मुफ्ती की मांग की स्वीकारते हुए सुरक्षाबलों को निर्देश दिया है कि रमजान के दौरान ऑपरेशन नहीं चलाए।

4. कावेरी जल विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की कर्नाटक की दलील
सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कर्नाटक की उस दलील को खारिज कर दिया, जिसमें कावेरी प्रबंधन योजना के मसौदे के लिए और समय की मांग की गई थी। इसके पीछे कर्नाटक का तर्क था कि राज्य में नई सरकार के गठन की प्रक्रिया चल रही है। अदालत ने केंद्र सरकार से कावेरी प्रबंधन योजना के मसौदे में प्रावधान को संशोधित करने के लिए कहा है। इस प्रावधान में केंद्र सरकार को चार दक्षिणी राज्यों (तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल और पुडुचेरी) के बीच कावेरी जल वितरण पर समय-समय पर निर्देश जारी करने का अधिकार है।

5. भारतीय मूल की सुशीला जयपाल बनीं 'ओरेगॉन' में चुने जाने वालीं पहली दक्षिण एशियाई महिला
भारतीय मूल की एक और महिला ने अमेरिकी राजनीति में दमदार एंट्री की है। अमेरिकन कांग्रेस की लीडर प्रमिला जयपाल की बहन सुशीला जयपाल ने अमेरिका के ओरेगॉन प्रांत के मल्टीनोमा काउंटी बोर्ड ऑफ कमिश्नर में सदस्य के रूप में जीत हासिल की है। इसके साथ ही वह ऐसी पहली दक्षिण एशियाई महिला लीडर भी बन गई हैं, जिसने इस पद पर जीत हासिल की है।