1. जेडीएस को कांग्रेस का समर्थन, भाजपा ने पेश किया सरकार बनाने का दावा
कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना खत्म हो गई है। 222 सीटों के नतीजों में भाजपा भले ही आगे है, पर बहुमत का पेंच फंस रहा है। बहुमत के लिए 112 सीटों की जरूरत है। अब तक भाजपा 104, कांग्रेस 78, जेडीएस 38 व अन्य दो सीटों पर आगे है। 
 
2. कर्नाटक चुनाव के नतीजों के बाद सस्पेंस बरकरार
कर्नाटक विधानसभा के रुझानों में जहां भाजपा को बहुमत मिलता दिख रहा था, लेकिन अब एग्जिट पोल की त्रिशंकु विधानसभा की भविष्यवाणी सही साबित होती दिख रही है। भाजपा सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है, लेकिन वह अब भी बहुमत से कुछ कदम दूर है। 
 
3. देशभर में मोदी लहर बरकरार, जानिए अब कितने राज्य में भाजपा की सरकार
कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजों को देखते हुए यह कहने में हैरानी नहीं होगी कि देश की कमान संभालने के चार साल बाद भी मोदी मैजिक बरकरार है। कर्नाटक में भले ही भाजपा बहुमत के आंकड़े से चंद कदम दूर रह गई हो, लेकिन उसने कांग्रेस को दोबारा सत्ता में आने से तो रोक ही दिया है। जिस तरह से भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है, उससे यही साबित होता है कि विपक्षी दलों के हमलों से देश में मोदी लहर कम होने की बजाय और बढ़ी है।
4. कर्नाटक चुनाव: कर्नाटक की हार से फिर छिड़ सकता है विपक्षी एकता का राग  
कर्नाटक चुनाव के नतीजों ने कांग्रेस को राजनीतिक हाशिए पर लाकर छोड़ दिया है। कांग्रेस की हालात क्षेत्रीय पार्टियों से भी बदत्तर होती जा रही है। ऐसे में कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी को विपक्ष का चेहरा बनाने की कोशिशें जमींदोज होती जा रही हैं। कर्नाटक चुनाव के नतीजों के बाद मोदी विरोधी एक बार फिर से विपक्षी एकता का राग छेड़ने की एक वजह बन सकता है। लेकिन उसमें राहुल गांधी के कद को छोटा रखने की संभावना रहेगी। 
5. बड़ी राहत पर भावुक हुए नवजोत सिद्धू, सुप्रीम कोर्ट से गैरइरादतन हत्‍या मामले में बरी
पूर्व क्रिकेटर और पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को रोडरेज मामले में सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने उनको इस मामले में महज एक हजार जुर्माना लगाकर छोड़ दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट द्वारा सुनाई गई तीन साल की कैद की सजा को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने सिद्धू को मारपीट का दोषी तो करार दिया, लेकिन गैरइरादतन हत्‍या के आरोप से बरी कर दिया। इस तरह सिद्धू को अपनी राजनीतिक पारी में बड़ा जीवनदान मिला है।