लखनऊ(उत्तर प्रदेश): परिवारवाद का लंबे समय तक विरोध करने वाली बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने आज पार्टी की बैठक में बड़ा फैसला कर दिया। मायावती ने आज बसपा की अखिल भारतीय बैठक में भाई आनंद कुमार को पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तथा भतीजे आकाश आनंद को नेशनल को-आर्डीनेटर नियुक्त किया है। बसपा मुखिया मायावती अक्सर को खुद को परिवारवाद से दूर बताती रही हैं।

राजनीति में लंबे समय से परिवारवाद का विरोध करने वाली मायावती ने आज परिपाटी को बदल दिया। बसपा सुप्रीमो मायावती ने भाई और भतीजे को अहम जिम्मेदारी दी हैं। उन्होंने भाई आनंद कुमार को पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तथा भतीजे आकाश आनंद को नेशनल कोऑर्डिनेटर नियुक्त किया है। इस बड़ी बैठक में बसपा में बड़े संगठनात्मक बदलाव की घोषण की। पार्टी में दो नेशनल कॉर्डिनेटर बनाए।साथ ही पार्टी में राष्ट्रीय स्तर पर दो समन्वयक बनाए गए हैं. मौजूदा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम अब राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी संभालेंगे. दानिश अली को लोकसभा में बीएसपी का नेता बनाया गया है।

इसके साथ ही जौनपुर से सांसद श्याम सिंह यादव लोकसभा में बीएसपी के उपनेता होंगे. जबकि पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्र राज्यसभा में बीएसपी के नेता होंगे. रविवार की बैठक में बीएसपी के तमाम नेताओं को बुलाया गया था. नेताओं के साथ बैठक में पार्टी प्रमुख मायावती ने इन पदों पर फैसले लिए।

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने इस बैठक में देशभर में बसपा का विस्तार करने, नई रणनीति बनाने, उत्तर प्रदेश उपचुनाव की तैयारियों और पार्टी में बदलाव को लेकर चर्चा की। लोकसभा चुनाव में सपा व रालोद के साथ गठबंधन करने वाली बसपा ने 38 में से दस सीट पर जीत दर्ज की थी। समाजवादी पार्टी को 37 में से पांच व राष्ट्रीय लोकदल को तीन में से एक भी सीट नही मिली है।

 बसपा प्रमुख मायावती ने आज पार्टी के देशभर के प्रमुख पदाधिकारियों की लखनऊ में अहम बैठक बुलाई। इस बैठक के मद्देनजर बसपा सुप्रीमो मायावती मंगलवार शाम को दिल्ली से लखनऊ पहुंची थीं। इसमें विभिन्न राज्यों में अगले साल तक होने वाले विधानसभा चुनावों व जनाधार बढ़ाने को लेकर जरूरी दिशानिर्देश दिए गए।