UP: सोनभद्र के घोरावल तहसील के उभ्भा गांव में जमीन पर कब्जे को लेकर अब सियासी संग्राम शुरू हो गया है। अब इस पर राजनीति सिलसिला शुरु हो गया है.और कोई भी नेता सोनभद्र न पहुंच पाएं इसलिए योगी सरकार ने के निर्देश पर पुलिस प्रशासन ने सोनभद्र जिले में धारा 144 लगा दी और साथ ही मिर्जापुर-भदोही के रास्ते पर किसी भी नेता की आवाजाही को लेकर रोक लगा दी है शुक्रवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी बीएचयू के ट्रामा सेंटर में गोलीकांड के घायलों से मिलने के बाद सोनभद्र के लिए रवाना हुई तो मिर्जापुर बॉर्डर पर पुलिस ने प्रियंका को हिरासत में ले लिया। इसके विरोध में प्रियंका गांधी वाहन से उतरकर सड़क पर ही धरने पर बैठ गईं। नरायनपुर पुलिस चौकी के सामने प्रियंका करीब आधे घंटे तक धरने पर बैठी रहीं। इसके बाद उन्हें हिरासत में लेकर चुनार किले के गेस्ट हाउस लाया गया। पुलिस ने प्रियंका समेत दस कांग्रेसियों को 24 घंटे के लिए नजरबंद कर चुनार किले में रखा।  पुलिस प्रशासन दुवारा सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों से न मिलने देने पर प्रियंका गांधी ने साफ कर दिया कि वो नरसंहार पीड़ितों से मिले बगैर वापस नहीं लौटेंगी.

अब प्रियंका को हिरासत में लेने को लेकर भी नया मोड़ आ गया. जब प्रियंका ने मुचलका भरने से इनकार कर दिया तो अब प्रशासन कह रहा है कि प्रियंका को हिरासत में नहीं लिया गया, सिर्फ रोका गया है. इस पूरे घटनाक्रम को लेकर प्रियंका योगी सरकार भी खूब बरसीं..वहीं दूसरी ओर यूपी के सोनभद्र नरसंहार कांड पर अब जमकर सियासत हो रही है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को सोनभद्र जाने को लेकर बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने जमकर हमला बोला है...नकवी ने कहा...ये प्रियंका गांधी सोनभद्र में पीड़ित परिवारों के कंधे पर बैठकर फोटोसेशन कराने की कोशिश कर रहीं हैं.