Mumbai: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले सभी पार्टियां तैयारियों में जुट गई हैं। और सियासी पारा दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है. चुनाव आयोग ने अभी तक विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया है. मंगलवार को चुनाव आयोग की टीम महाराष्ट्र जाएगी. चुनाव आयोग टीम विधानसभा चुनावों की तैयारी की समीक्षा करने के लिए कल मंगलवार को महाराष्ट्र पहुंचेगी. सूत्रों के मुताबिक, 17 सितंबर को चुनाव आयोग आगामी विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा कर सकता है. उधर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ गठबंधन में 288 सीटों का बड़ा हिस्सा रखकर 'बड़े भाई' की भूमिका निभाने का लक्ष्य रखने वाली पार्टी शिवसेना प्लान बी पर काम कर रही है। अगर आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना के बीच सीटों का बंटवारा सही से नहीं होता है और सीट शेयरिंग की बातचीत विफल हो जाती है तो शिवसेना प्लान बी अपनाएगी। शिवसेना का प्लान बी होगा- चुनाव में अकेले उतरना। 

दूसरी ओर रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रामदास आठवले ने बीते रविवार को कहा कि वे आगामी विधानसभा चुनाव अपनी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर लड़ेंगे। केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले राज्य में भाजपा-शिवसेना गठबंधन के सहयोगी हैं। बीजेपी और शिवसेना ने अपनी बैठक में सहयोगी पार्टियों को 18 सीटें देने का फैसला किया है। ऐसे में रामदास आठवले ने 18 में से 10 सीटों की मांग की है। राजनीतिक जानकारों की मानें तो महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी के पुराने सहयोगी दल प्रमुख के इस बयान को केंद्र की सत्तारूढ़ मोदी सरकार पर दबाव बनाने के तौर पर देखा जा रहा है.