पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस समेत विपक्षी दलों द्वारा बुलाए बंद  कुछ राज्यों में काफी असर देखा गया। बिहार में बंद के दौरान आगजनी और तोड़फोड़ की घटनाएं भी हुई। वहीं जहानाबाद में भारत बंद के दौरान दो साल की बच्ची की मौत हो गई है। परिवारवालों का कहना है कि भारत बंद के कारण एंबुलेंस काफी समय तक फंसी रही। बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया जा रहा था। वहीं इस घटना को लेकर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने विपक्षी दलों पर हमला बोला है। उन्होंने ने कहा कि लोग इस बंद का समर्थन नहीं कर रहे हैं

विवादित ढांचा विध्‍वंस मामले में सुनवाई के दौरान ट्रायल कोर्ट के विशेष जज की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को उत्‍तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा है। कोर्ट ने जज से रिपोर्ट के लिए पूछा कि विवादित ढांचे के विध्‍वंस मामले पर दिए गए समय सीमा में वे किस तरह सुनवाई पूरी करेंगे। बता दें कि याचिकाकर्ता जज को दो साल का समय देते हुए सुनवाई पूरी करने का आदेश दिया गया है

बैंक खातों में बढ़ती जालसाजी के चलते भारतीय स्टेट बैंक ने खातों को और सुरक्षित करने के लिए कड़ा कदम उठाया है। अब कोई दूसरा व्यक्ति किसी भी बैंक खाते में धनराशि जमा नहीं कर पाएगा। जिसका खाता होगा, वही अपने खाते में पैसा जमा कर सकेगा। नोटबंदी के दौरान बहुत से लोगों के खाते में अधिक पैसा जमा होने पर जब आयकर विभाग ने उनसे इस बाबत जानकारी चाही तो ज्यादातर लोगों का कहना था कि उन्हें मालूम नहीं कि किसने उनके खाते में ये रुपये जमा कर दिए। ये रुपये उनके नहीं हैं।

पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों को लेकर आज कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने भारत बंद बुलाया है। कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दलों के नेता रामलीला मैदान में विरोध जता रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस दौरान मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। राहुल ने कहा 'तेल की बढ़ती कीमतों पर पीएम मोदी एक शब्द नहीं बोलते हैं। जो देश सुनना चाहता है उस पर मोदी कभी कुछ नहीं बोलते हैं। यहां तक कि दुष्कर्म, महंगाई और राफेल जैसे तमाम मुद्दों पर भी मोदी शांत हैं।' राहुल ने आगे कहा कि सरकार द्वारा देशभर में टॉयलेट बनाए गए लेकिन उनमें पानी नहीं है।

कर्ज में डूबे पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) के बेलआउट पैकेज को लेने से बचने के लिए लग्जरी कारों, स्मार्टफोन और चीज के आयात पर रोक लगाने के उपाय पर चर्चा की।पाकिस्तान अब भीषण आर्थिक संकट से बाहर निकलने के लिए जल्द बड़ा फैसला ले सकता है। इस फैसले में नए प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार लग्जरी कारों, स्मार्टफोन के साथ-साथ 'चीज' के आयात पर पाबंदी लगा सकती है। ऐसा अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) से मिलनेवाले बेलआउट पैकेज से बचने के लिए किया जाएगा।