न्याय का एक बेहतरीन उदाहरण देते हुए राजस्थान के सीकर की एक स्थानीय अदालत ने 12 दिनों के अंदर अंदर एक अपराध के मामले में अपना फैसला सुनाया. इस अदालत ने कारन उर्फ़ केलिए को एक 4 साल की बच्ची का बलात्कार करने के जुर्म में आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई. ऐसे संगीन जुर्म की जल्द से जल्द सज़ा देने के लिए अदालतें रात 12 बजे तक कार्यरत रही. भाजपा सरकार की प्रशंसा  करते हुए माननीय प्रधान मंत्री ने भी यह कहा था की जबसे यह सरकार आयी है तबसे बलात्कार के मामलों में फैसले  जल्दी सुनाये जा रहे हैं. इसी सिलसिले में पिछले साल संसद ने भारतीय दंड संहिता में संशोधन करते हुए 12 साल की उम्र से निचे बलात्कार तथा सामूहिक बलात्कार  करने के मामलों में मृत्युदंड देने का प्रावधान रखा है.