New Delhi: समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने जब से अपने पिता मुलायम सिंह यादव की राजनीतिक विरासत संभाली है. तब से सपा अध्यक्ष लगातार फेल होते दिख रहे हैं. एक के बाद एक लगातार तीन चुनाव में सपा को करारी हार का सामना करना पड़ा. इतना ही नहीं एक-एक करके राजपूत नेता अखिलेश का साथ छोड़ते जा रहे हैं. सोमवार को पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर ने  राज्यसभा के साथ ही साथ समाजवादी पार्टी से भी इस्तीफा दे दिया.नीरज शेखर को अखिलेश यादव का बेहद करीबी माना जाता था सांसद नीरज शेखर ने राज्यसभा और पार्टी से इस्तीफा देकर उसे बड़ा झटका दे दिया है। नीरज के इस्तीफे के बाद उनके भाजपा में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही थीं। जो मंगलवार की शाम होते होते आखिरकार हकीकत में बदल गयी। नीरज भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और भूपेंद्र यादव की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए.

गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज और सपा प्रमुख अखिलेश यादव के बीच हालिया लोकसभा चुनाव के दौरान राजनीतिक खटास पैदा हो गई थी। लोकसभा चुनाव के दौरान नीरज शेखर बलिया संसदीय सीट से चुनाव लड़ना चाहते थे और इसके लिए उन्होंने टिकट की मांग की थी। पार्टी नेतृत्व ने उन्हें आश्वस्त भी किया था, लेकिन आखिरी वक्त तक भरोसा देकर अचानक उनकी जगह सदानंद पांडेय को बलिया से उम्मीदवार बनाकर चुनाव मैदान में उतार दिया गया। इसके बाद से उनकी नाराजगी बढ़ती ही गई। दोनों नेताओं के बीच नाराजगी पार्टी के अन्य नेताओं में चर्चा का विषय तो था ही लेकिन उनके पार्टी छोड़ देने का अंदेशा किसी को नहीं था।