नई दिल्ली: गृहमंत्रालय के साथ साथ पार्टी अध्यक्ष का पद संभाल रहे अमित शाह की व्यस्तता को देखते हुए अब पूर्व केंद्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा को भाजपा का कार्यकारी अध्यक्ष  बनाए गए हैं। नया चुनाव होने तक अध्यक्ष पद पर शाह बने रहेंगे। हालांकि यह भी तय माना जा रहा है कि दिसंबर -जनवरी में सांगठनिक चुनाव के बाद नड्डा औपचारिक रूप से अध्यक्ष चुने जाएंगे।

जेपी नड्डा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने के बाद उनको लेकर बीजेपी की ओर राजनैतिक प्रतिक्रियाएं भी आ रही हैं। इस कणी में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा ... जेपी नड्डा के जी के नेतृत्व में पार्टी नई ऊंचाईयों को छूयेगी।

यह पहली बार हो रहा है कि भाजपा में कोई कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया है। नड्डा को नया अध्यक्ष बनाए जाने की अटकल तभी से लगने लगी थी जब उन्हें मंत्रिमंडल से दूर रखा गया था। नड्डा प्रधानमंत्री और शाह दोनों के विश्वस्त माने जाते हैं। जेपी नड्डा को बीजेपी का नया कार्यकारी अध्यक्ष बनाये जाने को लेकर केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा नड्डा जी के कुशल नेतृत्व में संगठन और मजबूती मिलेगी।
 
नड्डा का लंबा राजनीतिक सफर रहा है। 1983-84 में नड्डा हिमाचल प्रदेश में एबीवीपी का प्रतिनिधित्व करने वाले पहले अध्यक्ष बने थे। वह हिमाचल सरकार में मंत्री भी रहे और पिछली मोदी सरकार में वह स्वास्थ्य मंत्री थी। 2019 लोकसभा चुनाव में उन्हें उसी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया जहां 2014 में अमित शाह ने कमल खिलाया था। इस बार उत्तर प्रदेश में महागठबंधन होने के बावजूद भाजपा का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा था।