पूरे देशभर में इस साल कृष्ण जन्माष्टमी को लेकर दो तिथियों का योग बन रहा है. मंदिरों के पुजारियों की माने तो जन्माष्टमी को लेकर पंचांग भेद हैं, क्योंकि 23 अगस्त को उदया तिथि में रोहिणी नक्षत्र नहीं रहेगा, जबकि 24 अगस्त को अष्टमी तिथि नहीं है. श्रीकृष्ण का जन्म इन्हीं दोनों योग में हुआ था. और वहीं अलग अलग जगहों पर जन्माष्टमी इन दोनों दिन मनाई जा रही है. कृष्ण की जन्मभूमि ब्रिज में तैयारियां आज से ही शुरू हो गई हैं. यहां मंदिरों को भव्य तरीके से सजाया गया है. यहां कान्हा के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है. मथुरा और वृन्दावन समेत पूरे ब्रज में तैयारियां जोरो शोरों से शुरू हो चुकी हैं. मंदिरों के गर्बग्रह में कृष्ण के महाभिषेक और अभिनन्दन की तैयारी पूरी हो चुकी है. यहां कृष्ण जन्मोत्सव आज रात को मनाया जायेगा. यहां पहुंचे श्रद्धालु पूरी तरह से कृष्ण की भक्ति में लीन नजर आए.