आंध्र प्रदेश में नयी सरकार आने के बाद से मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने बड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. इसी कड़ी में जगन मोहन रेड्डी ने 24 जून को तेलगु देशम पार्टी के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू द्वारा बनायीं गयी 'प्रजा वेदिका' ईमारत को तोड़ने के आदेश दिए. रेड्डी के आदेशानुसार कई गैर कानूनी इमारतों को तोड़ा जायेगा जिसकी शुरुआत प्रजा वेदिका से होगी. दरअसल ये ईमारत नायडू ने लोगों से बातचीत और उनकी शिकायतें सुनने के लिए बनायीं थी. ये ईमारत पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के अमरावती स्थित घर से सटी हुयी है और मंगलवार देर रात इसे तोड़ने का काम शुरू किया गया. कलेक्टरों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए जगन मोहन रेड्डी ने ये दावा किया की यह इमारत गैर-कानूनी है जिसे कई अधिनियमों का उलंघन करते हुए बनाया गया था. और इस ईमारत को तोड़ने से पहले यहां मुख्यमंत्री की ये बैठक इस ईमारत की आखरी बैठक थी. आपको बता दें की इस ईमारत को तोड़ने का काम पहले बुधवार की सुबह शुरू होने वाला था लेकिन राज्य सरकार ने इसे मंगलवार को ही तोड़ने शुरू कर दिया. चंद्रबाबू नायडू और उनके काफिले के गन्नवरम एयरपोर्ट से निकलने के बाद ही इसको तोड़ने का काम शुरू किया गया. इस इमारत में नायडू अधिकारियों के साथ बैठकें करते थे और लोगों से मिलते थे.