पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को बुधवार को सीबीआई ने आइएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तारी से 27 घंटे पहले तक वे गायब थे और उनके खिलाफ ईडी ने लुकआउट नोटिस जारी किया था. चिदमबरम के वकील द्वारा दायर की अग्रिम जमानत ख़ारिज करने के बाद उन्हें सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली. ये भी गौरतलब है की चिदंबरम ने पहले के मौकों पर मामले में गिरफ्तारी से सुरक्षा मांगी और हासिल की, लेकिन मंगलवार को दिल्ली उच्च न्यायालय ने मामले में उनकी भूमिका के बारे में कुछ चौकस टिप्पणियां कीं. उच्च न्यायालय ने उनकी याचिका खारिज करते हुए चिदंबरम के लिए "किंगपिन" और "प्रमुख साजिशकर्ता" जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया. ईडी और सीबीआइ के दावे पर भरोसा करें तो उनके पास सिर्फ आइएनएक्स मीडिया की नहीं, बल्कि चिदंबरम की देश-विदेश में फैली हजारों करोड़ रुपये की संपत्ति भी जांच के दायरे में है। आइएनएक्स मीडिया और एयरसेल मैक्सिस डील के अलावा चार अन्य मामलों में चिदंबरम की भूमिका की जांच की जा रही है. उनके बेटे करती चिदंबरम, उनकी बहु श्रीनिधि और पत्नी नलिनी के खिलाफ भी केस दर्ज हैं.