पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और उनकी सरकार की ओर से लगातार भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने की धमकियां दी जा रही हैं। पाकिस्तान की ओर से युद्ध के इन्हीं प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष खतरों और पाकिस्तान के आक्रामक रुख को देखते हुए भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास अपनी तैनाती में और तेजी ला दी है।शनिवार को सेना के उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने एलओसी पर पाकिस्तान से संभावित हमले के मद्देनजर सुरक्षा तैयारियों की समीक्षा की।इससे पहले, सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने भी नियंत्रण रेखा पर भारत की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए घाटी का दौरा किया था। सितंबर के पहले हफ्ते में पाकिस्तानी सेना ने नियंत्रण रेखा से 30 किलोमीटर दूर एलओसी के पास अपने इलाके में एक ब्रिगेड के आकार की सेना को स्थानांतरित कर दिया था, सेना ने खुफिया सूत्रों के हवाले से ये बताया था।पाकिस्तान में पीओके के सामने बाग और कोटली सेक्टर में लगभग 2,000 सैनिकों की संख्या वाले सैनिकों को रखा गया है। पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम उल्लंघन को भी बढ़ाया है।