रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन डीआरडीओ (Defence Research and Development Organization, DRDO) ने इंडियन एयर फोर्स के साथ मिलकर हवा से हवा में मार करने वाली ऑल वेदर मिसाइल अस्‍त्र का सफल परीक्षण किया. इस मिसाइल की रेंज सुखोई -30 एमकेआई (Su-30 MKI) लड़ाकू विमान से 70 किलोमीटर है. इस मिसाइल का परीक्षण सोमवार को ओडिशा में समुद्र तट से दूर बंगाल की खाड़ी के किया गया. ये मिसाइल पूरी तरह से स्वदेशी है. इसे 26 सितंबर 2018 को देश में ही बनाया गया था. डीआरडीओ द्वारा विकसि‍त की गई इस मिसाइल ने हवा में तैर रहे लक्ष्य पर सटीक निशाना साधा. यह मिसाइल अपनी श्रेणी की हथियार प्रणालियों में श्रेष्ठ है। अभी तक इसके कई परीक्षण किए जा चुके हैं। यह मिसाइल सुखोई-30एमकेआई जैसे लड़ाकू विमान पायलटों को 70 किलोमीटर दूर से ही दुश्मन विमानों को मार गिराने की क्षमता देती है। यह हवा से हवा में मार करने वाली भारत द्वारा विकसित पहली मिसाइल है। इसे मिराज 2000एच, मिग 29, सी हैरियर, मिग 21 और सुखोई एसयू-30 एमकेआई विमानों में लगाया जा सकता है.