दो मई के तूफान ने आगरा मंडल समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हिस्से में कई घंटे तक तबाही मचाई। लेकिन इसी की देखादेखी मौसम विभाग की साइट को देखकर वहां जारी अलर्ट को सोशल मीडिया में अपने-अपने तरीके से सामान्य धूल भारी आंधी और बवंडर का बतंगड़ बना दिया। दरअसल, मौसम विभाग की साइट पर भी जो पूर्वानुमान जारी किया जाता है, उसकी भाषा को समझना आम लोगों के लिए आसान नहीं होता है। यही वजह है कि सोशल मीडिया पर सक्रिय लोगों ने इसका अपने-अपने तरीके से दुरुपयोग किया। इससे चौतरफा घबराहट फैली।