बेंगलुरु(कर्नाटक): लोकसभा चुनाव में मिली हार का कांग्रेस में मंथन जारी है लेकिन अब पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने हार को लेकर मीडिया में खुलकर बोलना शुरू कर दिया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम. वीरप्पा मोइली ने शनिवार को कर्नाटक के बेंगलुरु में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम.वीरप्पा मोइली ने कहा कि अगर जनतादल सेक्युलर (JDS) से गठजोड़ न किया होता तो कांग्रेस निश्चित रूप से लोकसभा चुनाव में 15-16 सीटें जीत लेती। इससे साबित होता है कि यह गठबंधन बनाना एक गलती थी। कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली ने अपनी हार का ठीकरा भी गठबंधन पर थोपते हुए कहा कि चिक्कबलापुर में भी जीत पक्की होती।

मोइली ने यह जवाब तब दिया जब उनसे पूछा गया कि क्या कांग्रेस ने चिक्कबलापुर सीट जीत ली होती अगर कोई गठबंधन न हुआ होता? चिक्कबलापुर में संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने कहा कि गठबंधन पर भरोसा करना एक गलती थी। हमारे (कांग्रेस) लोगों ने भी तब इस बात का विरोध किया था।

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री वीरप्पा मोइली कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जद एस गठबंधन के संयुक्त उम्मीदवार भी थे। उन्हें चिक्कबलापुर में भाजपा के बीएन बच्चेगौड़ा ने 1,82,110 मतों से हराया था। इस चुनाव में कांग्रेस व जद एस गठबंधन को एक-एक सीट मिली जबकि भाजपा ने 25 सीटें जीती हैं।