छत्तीसगढ़ राज्य (Chhattisgarh) का बस्तर अंचल (Bastar village) वन संपदा से भरपूर है। साल के घने-ऊंचे जंगलों (jungles) की वजह से इसे साल वनों के द्वीप (Island) के नाम से भी जाना जाता है। बस्तर की प्राकृतिक सुंदरता (Natural beauty) के साथ ही यहां की उपजाऊ मिट्टी में कई तरह की औषधियां (herbs) और मसाला (Masalas) फसलों (Crops) का भी उत्पादन संभव हो रहा है। इसी दिशा में काम करते हुए यहां के आदिवासियों ने जंगलों में पेड़ों को नुकसान पहुंचाए बिना काली मिर्च की खेती शुरू की है। सामूहिक खेती की तर्ज पर गांव के लोग जंगलों में साल वृक्षों के सहारे लाल की लताओं को सहेज रहे हैं। इससे जंगल में साल वृक्षों का संरक्षण भी हो रहा है और काली मिर्च का उत्पादन भी। इस तरह कम्यूनिटी फार्मिंग (community farming) के इस नए प्रयोग की शुरूआत हुई.