बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक देश एक चुनाव को लेकर सभी दलों की एक बैठक बुलाई थी. इस बैठक में कई ऐसे विपक्षी दल थे जो शामिल नहीं थे जैसे तृणमूल कांग्रेस, तेलगु देसम पार्टी और अन्य. लेकिन जहां पीएम मोदी इस मुद्दे पर आम सहमति बनाना चाहते हैं वहीं इस प्रस्ताव को विपक्षियों ने इसका पुरजोर तरीके से विरोध किया है. ऐसे में नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्लाह ने भी इसका विरोध कर कहा की इस मुद्दे पर एक समिति बननी चाहिए ताकि बीजेपी संविधान को बुलडोज करने की कोशिश न कर सके.