Chemistry Nobel 2019: तीन वैज्ञानिकों को केमिस्ट्री में 2019 के नोबेल प्राइज दिए जाने की घोषणा हुई है. तीनों वैज्ञानिकों को ये पुरस्कार लिथियम-ऑयन बैटरी के विकास के लिए दिया जाएगा. जॉन बी. गुडेनॉघ, एम. स्टैनले व्हिटिनघम और अकीरा योशिनो को संयुक्त रूप से केमिस्ट्री का नोबेल मिला है. तीनों वैज्ञानिकों ने संयुक्त रूप से रिचार्जेबल डिवाइसेस पर काम किया है, जिनका इस्तेमाल पोर्टेबल इलेक्ट्रॉनिक्स में होता है. 97 साल के अमेरिकी प्रोफेसर गुडेननॉघ नोबेल पुरस्कार पाने वाले सबसे ज्यादा उम्र के व्यक्ति हैं. इस तिकड़ी को 9 मिलियन क्रोनोर मिलेंगे, जिसकी कीमत भारतीय रुपये में 6 करोड़ 40 लाख से ज्यादा है. इस पुरस्कार की घोषणा बुधवार को स्टॉकहोम में रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस ने की. लीथियम ऑयन बैटरी लाइटवेट होती है, जिसे रिचार्ज किया जा सकता है जो कि काफी पॉवरफुल होती है, इसका इस्तेमाल मोबाइल फोन्स, लैपटॉप और इलेक्ट्रिक कारों में भी होता है. नोबेल कमिटी ने कहा कि लिथियम-ऑयन बैटरी के विकास ने रिचार्जेबल वर्ल्ड का निर्माण किया है. कमिटी ने आगे कहा कि लिथियम-ऑयन बैटरी का इस्तेमाल पोर्टेबल डिवाइसेस में वैश्विक स्तर पर किया जा रहा है, जिनका इस्तेमाल लोग कम्युनिकेशन, वर्क, स्टडी, मनोरंजन और ज्ञान की खोज में किया जा रहा है.