तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित अब इस दुनिया में नहीं हैं। शनिवार को एस्कॉर्ट अस्पताल में उनका निधन हो गया। वह 81 साल की थीं। वो पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रही थीं।शनिवार की सुबह ही एस्कॉर्ट्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां दोपहर उन्होंने 3.55 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली। शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि देने के लिए लगातार नेताओं का जमावड़ा लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा था कि उन्होंने दिल्ली के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया है, तो वही शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि देने पहुंचे सीनियर बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी पहुचे ,शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि देने पहुंचीं पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी पहुचीं इसके साथ ही भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी सिंह ने शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि अर्पित की । दीक्षित एक लोकप्रिय नेता थी जिसके कारण पक्ष और विपक्ष दोनो ही उनका सम्मान करते था.यही एक वजह है जिसके कारण जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी।