Bhopal(MP): कुछ करने का हौंसला हो मंजिलें अपने आप मिल जाती हैं। भोपाल के बागमुगालिया एक्सटेंशन के लोगों ने तो इसे सही साबित कर दिखाया है। पिछले दो दशकों से यहां के लोगों ने पथरीली जमीन को हरा-भरा करने के लिए अपने खर्चे पर इस बंजर जमीन पर पेड़ लगाने की मुहिम शुरू की है। जिसका असर भी अब नजर आने लगा है।

इसी का नतीजा है कि जो इलाके काफी बंजर और वीरान नजर आता था। आज वो पेड़ों की वजह से हरा-भरा दिखने लगा है। पर्यावरण संरक्षण कितना अहम है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि रविवार को बागमुगलिया एक्सटेंशन कॉलोनी में रहने वाले लोगों ने पौधों की शोभायात्रा निकाली। इसमें न केवल बड़े-बुजुर्गों ही नहीं, बल्कि बड़ी संख्या में महिलाएं और छोटे बच्चे भी शामिल हुए। महिलाओं ने कलश की तरह पौधों को सर पर रखकर शोभा यात्रा में निकाली। वहीं यात्रा में शामिल हुए बच्चे अपने हाथ में ऐसे बैनर लेकर चल रहे थे। जिस पर पर्यावरण संरक्षण के संदेश लिखे थे। जहां-जहां से पौधों की ये शोभायात्रा निकली, लोगों ने दिल खोलकर इसका स्वागत किया।

आज ये जगह हरी-भरी नजर आने लगी है। लेकिन पहले ऐसा नहीं था। बागमुगलिया एक्सटेंशन कॉलोनी पथरीली जगह पर बनी है। यहां पानी की काफी किल्लत होती थी। ऐसे में लोगों ने संकल्प लिया और इस इलाके को हरा-भरा बनाने के लिए पेड़ लगाने का काम शुरू हुआ। पानी नहीं मिला तो लोगों ने टैंकर खरीदकर पौधों को सींचा। इसी का नतीजा है कि 18 साल पहले लगाए गए पौधे अब पेड़ बन गए हैं। इस बार रोपे गए पौधों में से अधिकांश फलदार हैं। इनमें नीम, अमरूद, पीपल, गुलमोहर के पौधे शामिल हैं।ऐसे में भोपाल के इन लोगों से सबको पर्यावरण संरक्षण की सीख लेनी चाहिए।

Tags