अयोध्या (Ayodhya Verdict) में राम जन्मभूमि (Ram Janmabhoomi ) विवाद मामले में फैसला आ गया है। सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने अयोध्‍या मामले में अपना सुप्रीम फैसला (supreme Court Decision on Ayodhya) सुना दिया। जिसमें फैसला हुआ कि विवादित ढांचे की जमीन रामलला (Ram Lala) को दी जाएगी। वहीं मस्जिद के लिए दूसरी जगह सरकार उपयुक्त जमीन देगी। सुन्नी वक्फ बोर्ड (Sunni Waqf Board) को पांच एकड़ जमीन मस्जिद के लिए मिलेगा। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से मंदिर के लिए ट्रस्ट बनाने का भी आदेश दिया है। सितंबर 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के 9 साल बाद सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला आया है, जिसमें शीर्ष अदालत ने  इस फैसले को भले ही अंतिम निर्णय के तौर पर माना जा रहा है, लेकिन इसके बाद भी दोनों पक्षों के पास कानूनी विकल्प खुले होंगे। सुप्रीम कोर्ट फैसले के बाद 30 दिन के भीतर पुनर्विचार याचिका (Review petition) यानी रिव्यू पिटिशन (Curative petition) दाखिल की जा सकती है। वहीं क्यूरेटिव पिटिशन (Curative petition) भी दाखिल की जा सकती है।