New Delhi: सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को राम जन्मभूमि मामले में आठवें दिन की सुनवाई शुरू हो गई है। रामलला विराजमान की ओर से सीएस वैद्यनाथन ने बहस शुरू की है। सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद की आठवें दिन की सुनवाई के दौरान 'राम लला विराजमान के वकील वैद्यनाथन ने मंगलवार को एएसआई की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि अयोध्या में मस्जिद का निर्माण करने के लिए हिंदू मंदिर गिराया गया।उन्‍होंने एएसआई की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि विवादित ढांचे से पहले वहां हिंदू मंदिर था।' एएसआई की रिपोर्ट में मगरमच्छ और कछुए की आकृतियों का जिक्र है, जिसका मुस्लिम संस्कृति से कोई लेना-देना नहीं है।

वरिष्ठ अधिवक्ता वैद्यनाथन ने कोर्ट को आगे बताया कि साकेत मंडल के राजा गोविन्द चंद्र ने ग्यारहवी शताब्दी मे अयोध्या मे विष्णु हरि का सुन्दर मंदिर बनवाया था जिसकी पुष्टि वहां से मिले एक शिलालेख से होती है जिसमें पूरा वर्णन है। 

गौरतलब है कि सोमवार को मामले की सुनवाई नहीं हो पाई थीं क्‍योंकि पांच जस्‍टिस वाले बेंच में से एक जस्‍टिस बोबडे अस्‍वस्‍थ होने के कारण कोर्ट नहीं आ सके थे। कोर्ट इस मामले मे रोज़ाना सुनवाई कर रहा है।
मामले की सुनवाई चीफ जस्‍टिस रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता में पांच जस्‍टिस की बेंच कर रही है। चीफ जस्‍टिस गोगोई के अलावा, जस्‍टिस बोबडे, जस्‍टिस डी वाइ चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस एस नजीर मामले की सुनवाई कर रहे हैं।