लोकसभा में एक बार में तीन तलाक को गैर कानूनी ठहराने वाला मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक पेश किया गया। केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बिल पेश किया। इस बिल के पेश होते ही सदन में हंगामा शुरू हो गया। तीन तलाक बिल का विरोध करते हुए हैदराबाद से सांसद और AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने जमकर विरोध किया। ओवैसी ने लोकसभा में कहा कि मोदी सरकार को मुस्लिम महिलाओं से हमदर्दी है तो केरल की हिंदू महिलाओं से मोहब्बत क्यों नहीं? आखिर सबरीमाला पर आपका रुख क्या है? इसी के साथ उन्होंने इस बिल को संविधान विरोधी और आर्टिकल 14 और 15 का उल्लंघन है। वहीं तीन पर ओवैसी के विरोध से ज्यादा रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस के विरोध करने पर आपत्ति जताई है। बता दें कि सरकार के पिछले कार्यकाल में भी तीन तलाक पर बिल लाया गया था लेकिन लोकसभा से पारित हो जाने के बाद ये बिल राज्यसभा से पास नहीं हो पाया था।