अपने पहले कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 08 नवंबर 2016 को नोटबंदी की ऐतिहासिक घोषणा की। प्रधानमंत्री ने 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को तुरंत बंद कर दिया था। इसके बाद सरकार को नए नोटों की व्यवस्था करने और हालात सामान्य करने के लिए महीनों काफी जद्दोजहद करनी पड़ी। वित्तमंत्री रहते हुए अरुण जेटली ने लगातार घंटों काम किया, उनके कार्यकाल का ये सबसे बड़ा फैसला था। सभी राज्यों की सहमति से जीएसटी (Goods & Service Tax) लागू करना मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती थी, जो केवल अरुण जेटली के कुशल नेतृत्व से ही संभव हो सका। केंद्र सरकार ने जुलाई 2017 में जीएसटी लागू किया, तो इसे पिछले कई दशकों में सबसे बड़े कर सुधार के तौर पर देखा गया।