Delhi: कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद पूरे देश में जराजनीतिक भूचाल अपने चरम पर है कश्मीर मुद्दे को लेकर जहाँ विपक्ष मोदी सरकार पर लगातार हमला कर रहा वही बीते सोममवार को इस क्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आज़ाद ने सरकार से आर्टिकल 370 के फैसले को वापस लेने की मांग की.

उन्होंने कहा, मैं सरकार से मांग करता हूं कि उन्होंने जो गलत निर्णय लिया उसे वापस लिया जाए। जो गलत साबित हुआ है क्योंकि राज्य में कोई भी खुश नहीं है। इस तरह के फैसले को उलट देना चाहिए। राजनीतिक नेताओं को रिहा चाहिए और सामान्य स्थिति बहाल की जानी चाहिए।

दूसरी ओर कांग्रेस के हमले का जबाब देते हुए केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी ने कहा. जम्मू कश्मीर ओर लद्दाख में शांति और विकास स्थापित करना भारत सरकार की प्रमुख चिंता है. नकवी ने कहा अनुच्छेद 370 की आड़ में जम्मू-कश्मीर के लोगों तक पहुँचने से जो प्रगति रोक दी गई थी, वे पुनर्गठन के बाद उन तक पहुँचेंगी जम्मू-कश्मीर के लोगों ने इस तथ्य को महसूस करना शुरू कर दिया है कि धारा 370 के कारण उन्हें कितना नुकसान उठाना पड़ा. जबकि अब जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोग अब मुख्यधारा की विकास प्रक्रिया का हिस्सा बन रहे हैं वहीं कांग्रेस अलगाववादियों के गीत गा रही है।