छोटा उदयपुर शहर में आदिवासियों के यहां अनोखी शादी करने का रिवाज है. यहां होने वाली शादियों में दूल्हा शामिल ही नहीं होता. नियम के मुताबिक शादी में दूल्हे की जगह उसकी अविवाहित बहन या  प्रतिनिधित्व करेगी. अगर बहन नहीं है तो दूल्‍हे के परिवार की कोई और कुंवारी कन्‍या दूल्‍हे की ओर से जाती है। ऐसी स्थिति में दूल्‍हा घर पर अपनी मां के साथ रहता है लेकिन उसकी बहन दुल्‍हन के दरवाजे पहुंचती है, उससे शादी करती है और उसे लेकर घर वापस आती है। हालांकि, दूल्‍हा शेरवानी पहनता है, साफा भी धारण करता है, तलवार भी बांधता है लेकिन अपनी ही शादी में शामिल नहीं हो पाता।