महाराष्ट्र के नागपुर में एक मां की ऐसी अनोखी ममता है, जिसे देखकर हर कोई कहता है कि इंसानियत आज भी जिंदा है। नागपुर की रहने वाली जया वानखेड़े रोज 40-50 गली के कुत्तों को खाना खिलाती है। इतना ही नहीं वो जो खाना कुत्तों को खिलाती हैं वो बासी नहीं, बल्कि ताजा होता है। जिसे वो खुद अपने हाथों से बनाती हैं। कुत्तों के साथ जया का यह अनोखा रिश्ता नया नहीं बल्कि 20 साल पुराना है। जया रोज अपने किचन में बड़े प्यार से दर्जनों रोटियां सेंकती हैं। उसके बाद वो गर्म दूध डिब्बों में भरती हैं। इतना सब कुछ करने के बाद वो अपनी स्कूटी पर सवार होकर निकल पड़ती हैं, इन कुतों का पेट भरने के लिए, जो हर दिन जया का बड़ी बेसब्री से इंतजार करते हैं। दरअसल जया को कुत्तों के साथ लगाव अपने पिता से विरासत में मिला है। जया के पिता भी जानवरों से बेहद प्यार करते थे। जया को कुत्तों से गहरा लगाव उस समय हुआ, जब एक कुत्ते ने उनके पिता की चोरों से जान बचाई। इस घटना के बाद से जया जानवरों को भी इंसानों की तरह मानने लगीं और उसी समय से बिना किसी स्वार्थ के इन कुत्तों की देखभाल कर रही हैं।