विकास की सरपट रेस में दौड़ते और चमकते चीन का सामाजिक ताना बाना बिगड़ रहा है। अगर आप सोचते हैं कि लैंगिक भेदभाव के मामले में सिर्फ भारतीय ही सबसे आगे हैं और कन्या भ्रूण हत्या जैसी समस्या सिर्फ भारतीय समाज का हिस्सा है तो जरा रुकिए, क्योंकि चीन में लैंगिक भेदभाव की हालत और भी बदतर है। 2011 की जनगणना के मुताबिक भारत में प्रति 1000 हजार लड़कों पर 940 लड़कियां हैं। चीन में प्रति 1000 लड़कों पर 862 लड़कियां ही हैं। ये आंकड़ें दिखाते हैं कि विकास के मामले में अमेरिका तक की नींद उड़ाने वाला चीनी समाज महिला अधिकार के मामले में किस कदर पिछड़ा हुआ है। चीन ने जनसंख्या नियंत्रण के लिए 1979 में वन चाइल्ड पॉलिसी लागू की। इस पॉलिसी से निश्चित तौर पर चीन को अपनी जनसंख्या को नियंत्रित करने में मदद मिली। लेकिन इसके कुछ दुष्परिणाम भी सामने आए। इस पॉलिसी के लागू होने के बाद कन्या भ्रूण हत्या के मामले तेजी से बढ़े और जनसंख्या अनुपात में काफी अंतर पाए गए।