श्रीलंका में बौद्धों और मुस्लिमों के बीच लगातार हिंसा के बाद दस दिनों के लिए आपातकाल लगा दिया गया है। बताया जा रहा है कि पिछले कुछ समय से बौद्ध और मुस्लिम समुदाय के बीच तनाव के चलते श्रीलंका के हालात काफी खराब हो गये हैं। श्रीलंकाई मीडिया के मुताबिक, कैंडी शहर में हालात बिगड़े। यहां दो दिन पहले मुस्लिम और बौद्ध समुदायों के लोग आमने सामने आ गए थे। झड़प में बौद्ध धर्म के एक शख्स की मौत हो गई। इस दौरान कई मुस्लिम कारोबारियों की दुकानों में आग लगा दी गई। स्थानीय प्रशासन ने इस हिंसा के बाद शहर और आसपास के इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया। श्रीलंका की आबादी दो करोड़ दस लाख के क़रीब है और इसमें 70 फ़ीसदी बौद्ध हैं और 9 फ़ीसदी मुसलमान। हाल के सालों में मुस्लिम समुदाय के ख़िलाफ़ धर्म के नाम पर हिंसा की घटनाएं बढ़ी हैं। इस हिंसा के लिए बौद्ध गुरुओं को ज़िम्मेदार ठहराया जाता है।