प्रधानमंत्री नौ फरवरी को तीन देशों की यात्रा पर जा रहे हैं। इन तीन देशों में फलस्ती न, यूएई और ओमान शामिल हैं। खाड़ी देशों में शामिल यूएई और ओमान कई लिहाज से भारत के लिए खास हैं। इसके अलावा जहां तक फलस्तीोन की बात है यहां से भारत का व्यातपारिक से ज्या दा दोस्ता ना संबंध है। कूटनीतिक लिहाज से मोदी की इस यात्रा को बहुत अहमियत वाला माना जा रहा है। हाल के दिनों में जिस तरह से भारत और इजरायल के रिश्तों में गर्माहट देखी गई है, उसके मद्देनजर भारत अपने इन पारंपरिक और कूटनीतिक लिहाज से महत्वपूर्ण देशों के बीच कोई गलत संकेत नहीं देना चाहता। मोदी की तीन देशों की यात्रा का महत्व बहुत व्यापक है। खाड़ी क्षेत्र आर्थिक और रणनीतिक वजहों से बेहद महत्वपूर्ण बन चुका है। खाड़ी के देशों में रहने वाले भारतीयों की संख्या हाल के वर्षो में 60 लाख से बढ़कर 90 लाख से ज्यादा हो चुकी है। ये लोग सालाना भारत को 35 अरब डॉलर की राशि भेजते हैं। इससे देश का विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ रहा है।