पाकिस्तान में पहली हिंदू दलित महिला सीनेटर बन कर कृष्णा कुमारी कोलही ने इतिहास रचा है। उन्होंने सिंध प्रांत की अल्पसंख्यक सीट से पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के टिकट पर पाक संसद के उच्च सदन सीनेट के चुनाव में जीत दर्ज की।39 वर्षीय कृष्णा की जीत पाकिस्तान में महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए महत्वपूर्ण है। इससे पहले पीपीपी की रत्ना भगवानदास चावला पहली हिंदू महिला सीनेटर चुनी गई थीं। कृष्णा सिंध प्रांत के थार जिले के नागरपारकर गांव की रहने वाली हैं। उनका जन्म फरवरी 1979 में हुआ था कृष्णा ने थार और अन्य क्षेत्रों में रहने वाले गरीब लोग और वंचित समुदायों के अधिकारों के लिए काम किया। वह स्वतंत्रता सेनानी रूपलो कोलही के परिवार से आती हैं। रूपलो ने 1857 में अंग्रेज सेना के खिलाफ सिंध में लड़ाई लड़ी थी। अंग्रेजों ने उन्हें गिरफ्तार कर 22 अगस्त 1858 को फांसी पर चढ़ा दिया था।