दुनिया के नक्शे पर एक शहर है यरुशलम, जिसे इजरायल अपना अविभाजित राजधानी मानता है वहीं, फिलिस्तीन पूर्वी यरुशलम को अपनी राजधानी मानता है। यह शहर ईसाइयों, मुस्लिमों और यहूदियों के लिए जितना बड़ा आस्था का केंद्र है, उतना ही विश्व की राजनीति और कूटनीति में यह एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल दिसम्बर में यरुशलम को इजरायल की राजधानी की मान्यता दे दी और वहां पर एक अंतरिम दूतावास खोल दिया। इस फैसले से अरब देश बौखला गए। दुनिया भर में ट्रंप के खिलाफ विरोध प्रदर्शन होने लगे। ट्रंप के इस फैसले के बाद 17 दिसंबर 2017 को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में 15 सदस्यों में से अमेरिका के मित्र देशों ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, जापान और यूक्रेन समेत 14 देशों ने ट्रंप के फैसले को खारिज करने के फैसले का समर्थन किया। इस पर दुनिया में अलग थलग पड़ते देख अमेरिका ने वीटो कर दिया। फिर 21 दिसंबर 2017 को संयुक्त राष्ट्र की आम सभा में 128 देशों ने अमेरिका के खिलाफ वोट किया और यरुशलम को इजरायल की राजधानी मानने से इनकार कर दिया।