पादहस्तासन: पाद मतलब पैर हस्ता मतलब हाथ। धीरे-धीरे हाथ को ऊपर की ओर ले जाएं। पैरों को सीधा रखते हुए कमर से आगे की ओर झुकें। हथेली को पूरी तरह से जमीन पर रखते हुए सिर को घुटने से छूने का प्रयास करें। शरीर की इस अवस्था को पाद हस्तासन कहते हैं। इसी अवस्था में तकरीबन 10 से 30 सेकेंड तक रहने के बाद धीरे-धीरे पुरानी अवस्था में वापस आएं। पादहस्‍तासन योग का ऐसा आसन है जो पाचन क्रिया को सुचारु करता है साथ ही यह कमर के लिए भी बहुत प्रभावी है। पेट की अतिरिक्‍त चर्बी को कम कर वजन कम करने में भी यह बहुत प्रभावी है। इससे रक्‍त का संचार ठीक रहता है जिससे पूरा शरीर ऊर्जावान रहता है।