Loksabha (लोक सभा) में J&K राज्‍य पुनर्गठन बिल पास हो गया है। आर्टिकल 370 को हटाने का प्रस्‍ताव अमित शाह ने 5 अगस्‍त को लोकसभा में पेश किया था।  गृहमंत्री अमित शाह ने इस बात को संसद में रखा तो खूब हंगामा हुआ, इस मामले में पक्ष विपक्ष भी सामने आया गये हैं। विपक्ष का आरोप है कि इसमें संविधान की अनदेखी की गई है। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि जब वह जम्‍मू कश्‍मीर की बात कर रहे हैं तो इसका मतलब है कि पाक अधिकृत कश्‍मीर ..... इसमें अक्‍साई चीन भी शामिल है । अमित शाह ने कहा कि इसके लिए वह अपनी जान भी दे देंगें। सरकार के इस कदम के बाद राज्‍य का विभाजन जम्‍मू कश्‍मीर और लद्दाख दो केंद्र शासित क्षेत्र के तौर पर होगा। इस फैसले का सबसे बड़ा असर यह होगा कि जम्‍मू कश्‍मीर को स्‍पेशल स्‍टेटस को दर्जा खत्‍म हो गया है। वहीं सबसे बड़ा और महत्‍वूर्ण बदलाव होगा कि अब राज्‍य में केवल एक ही झंडा फहराया जाएगा।