आर्थिक विपन्नता और तमाम दुश्वारियों के बावजूद सिवन ने नागेरकोयल के एसटी हिंदू कॉलेज से बीएससी (गणित) की पढ़ाई पूरी की. वह भी 100 प्रतिशत अंकों के साथ. वह स्नातक करने वाले अपने परिवार के पहले सदस्य रहे. इसके बाद पिता ने अपना मन बदल लिया. आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं थी कि सभी बच्चों की उच्च शिक्षा का खर्च उठा पाते. अत: सिवन के अन्य भाई-बहन उच्च शिक्षा हासिल नहीं कर सके. इसके बाद सिवन ने 1980 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआइटी) से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की. इसके बाद इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंसेज (आइआइएससी) से इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर किया. 2006 में उन्होंने आइआइटी बांबे से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में पीएचडी की डिग्री हासिल की.