मैनपुरी में 24 साल बाद BSP सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव की सांझा रैली पर मुलायम के बागी भाई और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी  के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। शिवपाल सिंह मुलायम सिंह पर कुछ भी बोलने से बचते नजर आए लेकिन मायावती और एसपी अध्यक्ष यानी अपने भतीजे पर निशाना साधा। शिवपाल यादव का मीडिया से बातचीत के दौरान दर्द भी छलका। उन्होंने सीधे तौर पर कहा कि हमने तो हमसे भी गठबंधन किया होता तो और मजबूती मिलती। यहां शिवपाल यादव ने चुनाव आयोग तरफ से प्रचार पर बैन खत्म होने के बाद योगी के फिर से प्रचार शुरू करने पर तंज कसा। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी  के अध्यक्ष ने चुनाव प्रचार के दौरान अभ्रद बयानबाजी पर रोक लगाने की भी बात  की। इस चुनावी समर में जो भी हो शिवपाल यदाव का असली दर्द तो समाजवादी पार्टी से अलग होने का ही है जिसे वो खुलकर बयां भी कर रहे हैं।