उम्र का शतक पूरा कर चुके देश के पहले मतदाता श्याम सरन नेगी ने लोकसभा चुनाव में एक बार फिर मत का प्रयोग किया। और पोलिंग बूथ पर उनका शानदार स्वागत हुआ।  जिला प्रशासन ने नेगी को उनके बूथ नंबर 51 तक लाने के प्रबंध किए थे। नेगी को उनके घर कल्पा से सरकारी वाहन में बिठाकर करीब चार किलोमीटर कल्पा चौक तक पहुंचाया गया। वहां से उनके लिए व्हीलचेयर की व्यवस्था की गई थी। प्रशासन समेत स्थानीय लोगों ने उनका रेड कारपेट बिछाकर, पारंपरिक वेशभूषा और वाद्य यंत्रों के साथ किन्नौरी टोपी और मफलर पहनाकर भव्य स्वागत किया। पहली जुलाई 1917 को किन्नौर जिले के कल्पा में जन्मे 102 वर्षीय नेगी की अब एक आंख से देखना और एक कान से सुनना कम हो गया है। उन्होंने कहा कि शारीरिक दुर्बलता के बावजूद नए लोगों से बात करने और मिलने से उनके अंदर नई शक्ति का संचार हो जाता है और वह खुद को जवान सा महसूस करते हैं। देश के पहले और वयोवृद्ध मतदाता श्याम सरन नेगी को केंद्रीय चुनाव आयोग ने 2014 के आम चुनाव के दौरान ब्रांड एंबेसडर बनाया था। वहीं 12 जून 2010 को मुख्य चुनाव आयुक्त ने उन्हें कल्पा आकर पहले मतदाता होने पर बधाई भी दी थी।