श्रावस्ती लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले बलरामपुर जिले के दारुल उलूम के मदरसे फजले रहमानिया में क्षेत्र की स्वास्थ्य सुविधाओं के मुद्दे को लेकर जागरण की ओर से एक चुनावी चौपाल का आयोजन किया गया..जिसमें जिले के सभी वर्गों के लोगों ने हिस्सा लिया..और चौपाल में जिले की खस्ताहाल स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर जनता ने बेबाकी से अपनी राय रखी.

बलरामपुर और श्रावस्ती लोकसभा क्षेत्र पर लगे पिछड़ेपन का कलंक दूर नहीं हो सका। बलरामपुर व श्रावस्ती दोनों जिलों की करीब 33 लाख की आबादी के स्वास्थ्य के लिए पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। यहां से रोजाना 50 से 100 महिलाओं को प्रसव कराने के लिए गोंडा, बहराइच व लखनऊ तक सफर तय करना पड़ता है। पैसे के अभाव में अधिकांश मरीजों को झोलाछाप चिकित्सकों से इलाज कराना पड़ रहा है। जिससे उनकी जान जोखिम में पड़ रही है.

वहीं प्रबुद्ध वर्ग में सियासी दलों के प्रति असंतोष नजर आता है। वक्ताओं ने किसी दल के एजेंडे में अब तक चिकित्सकों की तैनाती व संसाधन मुहैया कराने का मुद्दा न होने पर आश्चर्य जताया.