लोकसभा चुनाव 2019 की प्रक्रिया में 12 मई को दिल्ली में मतदान होना है और 16 अप्रैल यानी मंगलवार से उम्मीदवारों का नामांकन शुरू हो जाएगा। इस बीच आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच दिल्ली में गठबंधन की उम्मीदें एक बार फिर से जाग उठी हैं.

बीते रविवार को कांस्टीट्यूशन क्लब में हुई संयुक्त विपक्ष की प्रेसवार्ता में कांग्रेस के साथ दिल्ली में गठबंधन के मुद्दे पर AAP के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा... कि देश खतरे में है। नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी से देश को बचाने के लिए और भाजपा को हराने के लिए जो भी करने की जरूरत होगी, उसे हम करने के लिए तैयार हैं.

इससे पहले दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी शनिवार को कहा था कि अब यह कांग्रेस को तय करना है कि इस समय उसकी प्राथमिकता मोदी और शाह की जोड़ी को हराना है या ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने का रिकॉर्ड बनाना है।

पिछले कुछ महीनों से कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन पर अनिश्चितता बनी हुई है। लेकिन अरविंद केजरीवाल के इस बयान के बाद कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन की अटकलें फिर से तेज हो गई हैं। ऐसे में राजनीतिक गलियारों में एक बार फिर अंदरखाने गठबंधन की कोशिशें जारी रहने की चर्चा होने लगी है।