गुटों में बंटी कांग्रेस भाजपा को जरूर थोड़ी चुनौती देती नजर आ सकती है. चौटाला परिवार में हुए राजनीतिक बिखराव के बाद जननायक जनता पार्टी और इनेलो भी अलग-अलग चुनाव लड़ रहे. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी तथा उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी इस बार के चुनाव में भले ही छोटे प्लेयर्स की भूमिका में हों, लेकिन कमतर बिल्कुल भी नहीं हैं.