सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई है कि देश में चुनाव भी आधार कार्ड से करवाए जाएं। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाय चंद्रचुड़ ने सुनवाई के लिए याचिका स्वीकार कर ली है। 

भाजपा नेता और वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय ने याचिका दायर की है। उनकी मांग है कि मतदान के दौरान फर्जीवाड़ा रोकने के लिए आधार कार्ड से ही चुनाव कराए जाएं। 

आधार से इस तरह होगी वोटिंग 
- याचिका में पूरी प्रक्रिया का जिक्र भी किया गया है।  
- पहले चरण में मतदाता पोलिंग बूथ पर जाएगा और अपनी बारी का इंतजार करेगा। 
- नंबर आने पर सबसे पहले उसका फिंगरप्रिंट स्कैन होगा। 
- इससे वोटर का पूरा लेखा-जोखा अधिकारियों के सामने आ जाएगा। 
- उम्र की पुष्टि होने और अन्य पात्रताओं पर खरा उतरने पर वह ऑनलाइन वोट कर पाएगा। ईवीएम का इस्तेमाल नहीं होगा।