हिंदू धर्म में भगवान के पूजन में सबसे अधिक महत्वपूर्ण नियम है दीपक जलाना। दीपक के बिना किसी भी प्रकार का पूजन कर्म अधूरा ही माना जाता है। वास्तु के अनुसार दीपक से कई प्रकार के वास्तु दोष स्वत: ही समाप्त हो जाते हैं। दीपक से निकलने वाला नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव खत्म कर देता है और सकारात्मक ऊर्जा सक्रिय करता है।

दीपक से निकलने वाला धुआं वातावरण में मौजूद कई प्रकार सूक्ष्म कीटाणुओं को नष्ट कर देता है जो हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। मगर, दीपक लगाने के कुछ नियम हैं, जिनका यदि ध्यान रखा जाए, तो मनुष्य को अधिक लाभ होते हैं।