सारी दुनिया का बोझ हम उठाते हैं, लोग आते हैं लोग जाते हैं...फिल्म कुली के इस गाने में महिलाओं की भूमिका. अजीब है, पर सच. भारत के लगभग आठ हजार रेलवे स्टेशन में से एक है लुधियाना रेलवे जंक्शन. स्टेशन पर सामान लेकर उतरने वाले यात्रियों को एक खुशनुमा अहसास होता है जब उनके सामने माया और लाजवती नामक महिला कुली आ जाती हैं. माया के पति भी कुली थे. अप्रैल 2012 में उनकी मौत के बाद इसी काम के सहारे उनके जीवन की गाड़ी पटरी पर दौड़ रही है. शुरुआत में लोकलाज के कारण उनकी यह काम करने की इच्छा नहीं थी पर हालात के आगे मजबूर हो गईं. आज घर दूर होने के बाद भी वह बिना नागा अपनी ड्यूटी निभाती हैं. चाहे दिन हो या रात. आज वह स्टेशन पर 12 घटे काम करती है. कुली यूनियन की ओर से ड्यूटी निर्धारित होती है. जिसके हिसाब से कभी रात तो कभी दिन में ड्यूटी मिलती है. जरूरत पड़ने पर या फिर ड्यूटी को लेकर कोई मुश्किल आने पर रेलवे के अधिकारी उनका सहयोग करते हैं, माया पंजाब की पहली महिला कुली हैं. माया को देख ही लाजवती ने इसे अपनाया. आज वह अपने परिवार के लिए समाज की रुढ़ियों को तोड़ एक मिसाल कायम की. वे आज पुरुषों से आगे बढ़ अपनी छाप छोड़ चुकी हैं.   

ऐसी ही और कहानियाँ देखने के लिखे नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें ..

मसाला क्वीन लीना चौहान

 

सुरक्षा में सख्त हाथ