देश के लोगों को एक बार फिर नोटबंदी के दिनों की याद आ गई है। ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, गुजरात समेत देश के कई राज्य कैश संकट से जूझ रहे हैं। इन राज्यों में लोग कैश को लेकर बैंक और एटीएम के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन उन्हें निराश होकर घर लौटना पड़ रहा है। एटीएम में नो कैश के बोर्ड लटके हुए हैं, तो वहीं बैंक भी लोगों को ज्यादा कैश नहीं दे रहा है।

इसे लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली का कहना है कि हमने देश में करेंसी की समीक्षा की है और फिलहाल जरूरत से ज्यादा पैसा उपलब्ध है। नोटों की आचनक हुई कमी का कारण कुछ इलाकों में बढ़ी खपत है, हमारे पास फिलहाल 1,25,000 करोड़ का कैश है। लेकिन जिस तरह से ATM में कैश की किल्लत है वो ये सवाल उठाती है कि क्या सच में नोटबंदी का चेहरा दोबारा देखना पड़ सकता है