हुंडई मोटर इंडिया ने हाल ही में क्रेटा फेसलिफ्ट को छोड़कर अपने सभी मॉडल्स की कीमतों में 2 फीसद का इजाफा करने का फैसला किया किया है। यानी अब जून 2018 से हुंडई की गाड़ियां 50,000 रुपये तक महंगी हो जाएंगी।ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या हुंडई और मारुति के अलावा दूसरी कंपनियां भी अपनी गाड़ियों की कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती है।

इंडियन फाउंडेशन ऑफ ट्रांसपोर्ट रिसर्च एंड ट्रेनिंग (IFTRT) के मुताबिक पिछले कुछ दिनों में डीजल की लगातार कीमतें बढ़ने के चलते ट्रकों का भाड़ा 2 से 2.5 फीसद बढ़ गया है। ऐसे में माल ढुलाई की कमी के चलते पिछले महीने के दौरान ट्रक रूट पर 4.5 से 5.5 फीसद तक गिरावट देखी गई है। इसी वजह से कार कंपनियों के लिए माल भाड़े में बढ़ोतरी भी अपने मॉडल्स के दाम बढ़ाने की एक वजह हो सकती है।