संवाद सूत्र, नौगांव : नौगांव ब्लॉक अंतर्गत बलाड़ी-खांशी के ग्रामीण बीते छह वर्षों से सड़क डामरीकरण की बाट जोह रहें हैं। सड़क का डामरीकरण नहीं होने से ग्रामीणों को आवागमन करने में परेशानी हो रही है। स्थिति यह है लोनिवि बड़कोट से शिकायत करने के बाद भी स्थिति जस की तस है।

स्थानीय ग्रामीण उर्मिला ने कहा कि बलाड़ी-खांशी सड़क बीते छह वर्षों से बदहाल बनी हुई है, समय समय पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने संबंधित विभाग से सड़क डामरीकरण की गुहार लगाई थी, लेकिन विभागीय अधिकारी उनकी मांगों को अनसुना कर रहें हैं। बलाड़ी- खांशी सड़क मार्ग पलेठा गांव तक डामरीकरण हो रखा है, लेकिन यहां से आगे करीब छह किमी सड़क मार्ग की स्थिति बेहद खराब है, सड़क पूरी तरह गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। ऐसे में कभी भी कोई भी दुर्घटना घट सकती है। ग्रामीणों के अलावा वाहन चालक इस सड़क पर आने से डर रहे हैं। वाहन चालक राजपाल राणा ने बताया कि सड़क मार्ग बदहाल होने से उन्हें जान-जोखिम में डालकर आवागमन करना पड़ता है। स्थानीय काश्तकार केदार सिंह राणा ने बताया कि नगदी फसलों के समय सड़क की जर्जर हालत के चलते इसे बाजार तक लाने में भारी परेशानी होती है। कहा कि कहीं-कहीं मानकों के तहत सड़क नहीं काटी गई है, ऐसे में संकरी सड़क के बीच में भारी भरकम पत्थर भी दुर्घटनाओं को न्योता दे रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि इस बारे में कई बार लोनिवि से शिकायत की गई, लेकिन सड़क का डामरीकरण को लेकर ठोस आश्वासन नहीं मिला। सड़क डामरीकरण का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है, बजट स्वीकृत होने के बाद ही सड़क का डामरीकरण किया जाएगा।- एसके गर्ग, अधिशासी अभियंता, लोनिवि बड़कोट

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप