जागरण संवाददाता, उत्तरकाशी : नगर पालिका उत्तरकाशी में तैनात संविदा कर्मचारियों की भविष्य निधि काटने व जमा करने में लापरवाही बरती गई। यह रकम करीब 64 लाख रुपये की है। पालिका के करीब 70 संविदा कर्मचारियों के ईपीएफ की कटौती नहीं होने पर नगर पालिका के सभी खाते सीज कर दिए हैं। कर्मचारी भविष्य निधि कार्यालय की ओर यह कार्रवाई की गई है। 31 मार्च से पहले पालिका को यह धनराशि जमा करने के आदेश दिए गए हैं। इसकी पुष्टि करते हुए नगर पालिकाध्यक्ष रमेश सेमवाल ने की है।

नगर पालिका बाड़ाहाट में वर्तमान में 70 कर्मचारी संविदा पर काम कर रहे हैं। इन संविदा कर्मचारियों की अनिवार्य ईपीएफ कटौती के लिए वर्ष 2011 में आदेश हुए थे, लेकिन नगर पालिका में तब से विराजमान रहे पालिकाध्यक्ष और अधिशासी अधिकारी इन आदेशों को धता बताते रहे। अब भविष्य निधि कार्यालय से पालिका को नोटिस मिला और 2011 से दिसंबर 2019 तक की ईपीएफ धनराशि को जमा करने के आदेश दिए गए। साथ ही पालिका के खाते भी सीज कर दिए हैं।

वहीं नगर पालिकाध्यक्ष रमेश सेमवाल ने कहा कि 2011 से जो पालिकाध्यक्ष और अधिकारी रहे हैं उनकी इसमें बड़ी लापरवाही है। अब पालिका को 64 लाख की धनराशि एक साथ 31 मार्च तक जमा करनी होगी। इस धनराशि की पालिका व्यवस्था कर रही है। यह निश्चित है कि इसका असर पालिका के विकास कार्य पर भी पड़ेगा ऊपर पालिका के खाते भी सीज किए गए हैं। ये स्थिति कंगाली में आटा गीला होना जैसी हैं। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के वेतन से पीएफ की कटौती न करने और नगर पालिका की ओर से भी कोई रकम जमा न करने पर पूरी जिम्मेदारी संबंधित नगर पालिका की ही होती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस